Copyright 2018 www.indiaskk.com. Powered by Blogger.

Blogging

Love Awareness

Business Information

Motivation

Essential News

Health Awareness

Blogging

Festivals

Bhagwan Shiv ji Ne dharan kiye zehreelay Jeev jantu aur bhasma iska kya Karan hai. भगवान शिव ने धारण किए जहरीले जीव जंतु और भस्म इसका क्या कारण है।

Bhagwan Shiv ji Ne dharan kiye zehreelay Jeev jantu aur bhasma iska kya Karan hai. शिव जी ने उन सभी को शरण दी है, जिनसे इस दुनिया ने घृणा की है।



Bhagwan Shiv ने संसार में व्याप्त उन सभी कड़वाहट और नकारात्मक चीजों का सेवन किया है। संसार में व्याप्त सारी बुराइयों को अपने भीतर ग्रहण किया है, जिससे संसार में नकारात्मक शक्ति और बुराइयों से अपने भक्तों को बचाया जा सके।
Bhagwan Shiv ji Ne dharan kiye zehreelay Jeev jantu aur bhasma iska kya Karan hai.
Bhagwan Shiv ji 

Shiv ji ने अपने शरीर पर सर्पों की माला और जहरीले पदार्थों का सेवन किया।

सर्पों की माला को Shiv ji ने अपने गले में धारण कि सर्पों से मनुष्य डरते हैं, और उन्हें अपने से दूर ही रखते हैं, क्योंकि सर्प जहरीले होते हैं। जिससे मनुष्य के जीवन को खतरा हो सकता है।

इसी कारण Bhagwan Shiv ने उन्हें अपने गले में धारण किया है। भगवान शिव अपने कानों में बिच्छू को धारण करते हैं, यह भी बेहद ही जहरीले होते हैं। भगवान शिव के आसपास भूत-प्रेतों की टोली होती है, जिन जीव-जंतुओं से मनुष्य दूर रहता है, जिन्हें वह अपने पास नहीं रखना चाहता।

उन सभी जीव जंतु का भगवान शिव पालन करते हैं, उन्हें अपने पास स्थान देते हैं। यही कारण हो सकता है कि भगवान शिव ने संसार की उन वस्तुओं या जीवो को धारण किया, जिनका मनुष्य ने तिरस्कार किया।


Bhagwan Shiv क्यों धारण करते हैं श्मशान की भस्म।

राजा दक्ष द्वारा भगवान शिव का अपमान होने के कारण, माता सती स्वयं को राजा दक्ष द्वारा किए जा रहे यज्ञ में भस्म कर लेती हैं। तब भगवान शिव क्रोधित होकर राजा दक्ष की गर्दन काट देते हैं। भगवान शिव माता सती के शव को लेकर सारे ब्रह्मांड में विचरण करते हैं। माता सती के शरीर से निकलने वाली भस्म को भगवान शिव अपने शरीर पर धारण करते हैं, यह प्रथा तभी से चली आ रही है, भगवान शिव पर भस्म चढ़ाई जाती है।


Also read -
Sawan Ka Mahina Bhagwan Shiv ko Kyun Hai ati Priya

Shiv Ji Ki Maha Aarti Evam Kyon Karte Hai Aarti 

Bhagwan Shiv Ki Puja Mein Rakhe in Baaton Ka Dhyan Kya Kare Kya Na Kare Jane

Bhagwan Shiv ने सृष्टि को बचाने के लिए हलाहल विष को सेवन किया था।

देवताओं और राक्षसों ने मिलकर समुद्र मंथन किया, उस समुद्र मंथन से 14 रत्नों में से एक विष भी था, जिसको हलाहल विष के नाम से जाना जाता है। देवताओं और राक्षसों ने उस विष को ग्रहण नहीं किया, तब देवों के देव महादेव ने उस विष को अपने कंठ में धारण किया।

इस विष में इतनी गर्मी थी कि भगवान शिव के अलावा इस ब्रम्हांड में उस विष को कोई और धारण नहीं कर सकता था। इस सृष्टि और सभी जीव जंतुओं को बचाने के लिए भगवान शिव ने उस विष को अपने कंठ में धारण किया। तभी से भगवान शिव नीलकंठ नाम से जाने जाते हैं, उस विष के प्रभाव से भगवान शिव का कंठ नीले रंग का हो गया।

Bhagwan Shiv पर भांग धतूरा बेल क्यों चढ़ाया जाता है

भगवान शिव ने जब हलाहल विष का सेवन किया था, तब उनका शरीर व्याकुल होने लगा। उस विष के प्रभाव से बचने के लिए अश्विनी कुमारों ने इन औषधियों से शिवजी की व्याकुलता को दूर किया था। तभी से भगवान शिव पर भांग, धतूरा, बेल आदि चढ़ाया जाता है।

Bhagwan Shiv के तीनों नेत्र किसके प्रतीक हैं

पहला नेत्र ब्रह्मा जो सृष्टि का सृजन करते हैं, दूसरा नेत्र विष्णु जो सृष्टि का पालन करते हैं, तीसरा नेत्र शिव जो सृष्टि का संहार करते हैं।

जब तीसरा नेत्र खुलता है तो केवल और केवल विनाश होता है, जैसे कामदेव को भस्म किया था, भगवान शिव ने अपने तीसरे नेत्र से।

Also read -
Mantra our Stuti  Mahamrityunjay Mantra, Bhajan, Rudrashtakam, Lingashtakam, Shiv Tandava Stotram 

Bhagwan Shiv Par In Samagri Ko Chadane Se Milte Hain Yeh Adbhut Labh 


Bhagwan Shiv की जटाओं पर माता गंगा का वास है।

भगवान शिव की जटाओं में मां गंगा विराजमान है और मां गंगा को विराजमान करने की ताकत अन्य किसी देवताओं में नहीं है। केवल उनको देवों के देव महादेव ही धारण कर सकते थे।

Bhagwan Shiv अपने मस्तक पर चंद्र को क्यों धारण करते हैं।

Bhagwan Shiv के सिर पर चंद्र विराजमान जो शीतलता का प्रतीक है, भगवान शिव शेर की खाल के वस्त्र पहनते हैं, भगवान शिव के पूरे शरीर में जिन जिन जीव और वस्तुओं को धारण किया है। उसका कोई ना कोई मतलब है।

ऐसे परम आनंद को देने वाले Bhagwan Shiv को प्रसन्न करने के लिए उनकी प्रिय वस्तुओं को उन पर चढ़ाना चाहिए और उन वस्तुओं को फिर दान करना चाहिए। जिससे उनका उपयोग जरूरतमंद कर सकें।

The problem of Mob lynching is increasing in India. मोब लिंचिंग की समस्या भारत में निरंतर बढ़ती जा रही है

Mob Lynching की समस्या India में निरंतर बढ़ती जा रही है। इसका मुख्य कारण है बिना जाने समझे किसी भी बात पर Believe कर लेना। कोई भी Social Media का Use करके खुराफाती तत्व, इस तरह की खबरें समाज तक पहुंचाते हैं, पर इन खबरों से आपको बचना है।

What is Mob Lynching. 

भीड़ के द्वारा किसी व्यक्ति पर बिना जाने समझे, उसके साथ हिंसा करना, यह जाने बिना कि वह गुनाहगार है या नहीं। अपने तरीके से उसको सजा देना, उस व्यक्ति को इस बात का मौका ना देना कि वह कोई सफाई दे सकें, इसे Mob lynching कहते हैं। सीधी भाषा में कहें तो भीड़ के द्वारा किसी भी व्यक्ति को सजा देना या मार देना।

इस तरह की घटना को अंजाम देना कानून तोड़ना है, कानून का सम्मान ना करना और अपने मन से जो भी समझ में आए, वह करना। इससे देश का सम्मान, देश के कानून को ताक पर रखकर भीड़ के द्वारा इस तरह का निर्णय लेना निंदनीय है।
The problem of Mob lynching is increasing in India.
 Mob lynching

Use of social media for Mob lynching is fatal.

झूठी घटनाओं को समाज में फैलाने के लिए सोशल मीडिया का उपयोग होता है और लोग बिना जाने समझे इन बातों पर विश्वास करते हैं और गलत निर्णय ले लेते हैं।

कुछ गलतियां समाज के उन लोगों की है जो इस बात की तहकीकात नहीं करते, कि यह घटना या सही है या नहीं। बिना जाने समझे, इन बातों को अन्य लोगों तक पहुंचाने लगते हैं, जो की मूर्खता पूर्ण कार्य है।

इस तरह की गलत सूचना से किसी व्यक्ति की जान भी जा सकती है, और कई तरह के ऐसी घटनाएं हो सकती हैं। जिसके बारे में किसी ने सोचा भी नहीं होगा, इसलिए इस तरह की घटनाओं से बचना चाहिए।

कुछ लोग तो बिना जाने समझे, ऐसी पोस्ट शेयर करते हैं, जिससे उनको लाइक और follower बढ़े। पर वह यह नहीं समझते कि इस तरह की सूचना कितनी नुकसानदायक हो सकती है।

कानून के द्वारा इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए सोशल मीडिया, WhatsApp पर किसी भी तरह की गलत सूचना फैलाने वाले को कड़ी से कड़ी सजा दी जाएगी। जल्द ही इस तरह का कानून सरकार के द्वारा लाया जाएगा।


Such incidents happen due to the following reasons.(Mob lynching) इस तरह की घटनाएं निम्न कारणों से होती है।

अंधविश्वास blind faith

Mob lynching जैसी घटनाओं को बढ़ावा देता है, अंधविश्वास। किसी की भी बातों में आकर भीड़ बिना समझे और जाने कि सच्चाई क्या है। इस तरह की घिनौनी घटना को अंजाम दे देती है। जिससे बेकसूर लोग भी मारे जाते हैं।

अगर कोई व्यक्ति कसूरवार है, तब भी समाज को इसका अधिकार नहीं कि वह उसको सजा दें। यह अधिकार केवल कानून का है, अंधविश्वास समाज को नीचे की ओर ले जाता है। बिना जाने समझे किसी भी बात का निर्णय लेना मूर्खता होती है, इसलिए जरूरी है कि समझदार बने और अंधविश्वासों से दूर रहें।

कुरीतियां evils

भारत में आज भी ऐसी कई तरह की कुरीतियां चली आ रही हैं, जिनके कारण कई बेकसूर लोग Mob lynching जैसी घटनाओं का शिकार हो जाते हैं। समाज को एकजुट होना चाहिए, इस तरह की कुरीतियों को दूर करने के लिए, ना कि बढ़ावा देने के लिए। समाज का दायित्व है कि वह समाज में जागरूकता फैलाएं और इस तरह की निंदनीय घटनाओं को होने से रोके।

ऊंच नीच, जात पात की भावना

दुनिया 21वीं सदी मैं आ गई है और आज भी समाज में ऊंच नीच और जात पात की भावना बनी हुई है। जिसके कारण Mob lynching जैसी घटनाएं घटित होती रहती हैं। इंसान का पहला कर्तव्य है, इंसानियत। जिस व्यक्ति के अंदर इंसानियत नहीं है, वह मनुष्य कहलाने के लायक नहीं।

जात पात और ऊंच नीच जैसी बातें धार्मिक ग्रंथों में भी नहीं मिलती। भगवान कृष्ण और भगवान राम के आदर्शों से भी आप सीख सकते हैं कि जब स्वयं भगवान ने जात पात और ऊंच नीच जैसी बातों को मान्यता नहीं दी। तो एक तुच्छ मनुष्य इस तरह की बातों पर क्यों अमल करते हैं, इसलिए समाज से ऊंच नीच, जात पात जैसी भावनाओं, बातों को मिटा देना चाहिए। जिससे Mob lynching जैसी घटनाएं ना हो।



धार्मिक कारण Religious reasons

भारत धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र है, और इसमें सभी धर्मों को समानता अधिकार दिए गए हैं। समाज अपने विचारों को किसी के ऊपर भी लाद नहीं सकता। सभी धर्म के लोगों को अपने-अपने तरह से रहने का अधिकार है। भारत में Mob lynching जैसी घटनाएं धर्म के नाम पर भी हो रही है, जिन को रोका जाना चाहिए। इसके लिए समाज के सभी उच्च वर्ग के लोगों को समाज में फैली इन बुराइयों को मिटाना चाहिए।

जागरूक ना होना Not being aware

समाज में होने वाली इस तरह की घटनाओं से बचने के लिए जागरूक होना बेहद ही जरूरी है। किसी भी व्यक्ति की बातों में ना आकर स्वयं इन बातों पर विचार करें। जिससे Mob lynching जैसी घटनाएं ना बढ़े।

इस तरह की घटनाओं से समाज गलत दिशा में जाता है, समाज को जागरुक करने का कर्तव्य हर एक व्यक्ति का होता है। समाज में जरूरी बातें हैं अच्छी शिक्षा, रोजगार, देशभक्त, समाज सेवी जैसे कार्यों में आगे बढ़ना, जिससे समाज और देश दोनों का ही नाम होगा।

Mob lynching जैसी घटनाओं को समाज से मिटाना है, जिससे खुराफाती तत्व, देश विरोधी आदमी ऐसी घटनाओं को बढ़ावा ना दे पाएं। इसमें पूरे समाज और हर एक अच्छे व्यक्ति का कर्तव्य है कि वह इस तरह की निंदनीय घटनाओं को रोकें, और समाज के सुधार के लिए कार्य करें। धन्यवाद

The Secret of Shiva's Kanwar Yatra शिव जी की कावड़ यात्रा का रहस्य

The secret of Shiva's kanwar Yatra, Sawan Ke mahine mein Bhagwan Shiv Ki kanwar Yatra Nikali Jati hai.Kawar Yatra nikalne ke liye Bhakt badi Shraddha bhaw se nadi se Jal bhar kar Bhagwan Shiv par Jal Abhishek Karte Hain.

The Secret of Shiva's Kanwar Yatra शिव जी की कावड़ यात्रा का रहस्य 2018
Kanwar Yatra

क्या आप जानते हैं -
Bhagwan Shiv's की कावड़ यात्रा क्यों निकाली जाती है इससे जुड़े कुछ रोचक बातें हम आप तक पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं.

हिंदू धर्म के अनुसार भगवान शिव की कावड़ य़ात्रा का नियम है, जिस कारण से भोलेनाथ के भक्त उनकी प्रिय कावड़ यात्रा निकालते हैं। लेकिन यह यात्रा कैसे और कब शुरू हुई, इसके बारे में आप शायद जानते होंगे।

आइए जान लेते हैं, इससे जुड़ी कुछ मान्यताओं के बारे में - "The secret of Shiva's kanwar Yatra"


कथा के अनुसार
माना जाता कि इस यात्रा की शुरुआत समुद्र मंथन के समय से हुई है, समुद्र मंथन के दौरान निकले विष को पीने के बाद शिवजी का शरीर नीला हो गया था।

जिसे देखकर देवतागण परेशान होने लगे। इसके प्रभाव को खत्म करने के लिए उन्होंने पवित्र  गंगाजल को शिव के शरीर में कांवड़ में भरकर चढ़ाया था।

लोगों का यह भी मानना है कि श्रवण कुमार ने भी इस परंपरा की शुरुआत की थी। अपने माता-पिता को हरिद्वार में गंगा स्नान कराने की इच्छा को पूरा करने के लिए कांवड़ में बैठाकर ले गए थे। तभी से कावड़ यात्रा की शुरुआत हुई।

The Secret of Shiva's Kanwar Yatra शिव जी की कावड़ यात्रा का रहस्य
Kanwar Yatra

पौराणिक कथाओं व मान्यताओं के अनुसार सबसे पहले भगवान राम ने उन्होंने कावड़ में जल भरकर शिवलिंग का अभिषेक किया था।

इसके अलावा प्रचलित मान्यताओं के अनुसार भगवान परशुराम ने भी कावड़ उठाई थी।



गंगाजल से भोलेनाथ का अभिषेक करने से, भोलेनाथ का शरीर ठीक हो गया। इसलिये भोलेनाथ की
कावड़ यात्रा निकाली जाती है। और गंगाजल लेकर नीलकंठ महादेव को चढ़ाते हैं।

"The secret of Shiva's kanwar Yatra" जैसे जो भी Shiva-bhakt Bhagwan Neelkanth Mahadev पर Sawan Mah में कांवड़ के द्वारा Jal Abhishek करता है, उसे विशेष फल की प्राप्ति होती है। भोलेनाथ बेहद ही दयालु हैं। उनके ऊपर जल चढ़ाने वाले और उनको स्मरण करने वाले व्यक्तियों के सारे कष्ट हर लेते हैं।

Shiv pujan me Bhool Kar bhi na pehne is Rang Ke kapde Shivji Ho Jayenge naraz

Bhagwan Shiv Ki Puja karte samay kabhi bhi in rangon ke kapde nahi pehna chahiye. Shivji ki Pooja karte samay in Baaton ka Aap visheshtour Par Dhyan Rakhein.



Shiv pujan me Bhool Kar bhi na pehne is Rang Ke kapde Shivji Ho Jayenge naraz
shiv ji

Bhagwan Shiv ko Prasann karna hai to Sawan Ke mahine Se Achcha Koi Aur dusra Samay nahi hai. iss samay Bhagwan Shiv Dharti par vicharan karne ke liye Aate aur sari Shristi ka karobaar sambhalte hai. Hota Hai isliye Bhagwan Shiv ko Prassan karne ke liye aap in rangon Ka upyog kar sakte hain.

सावन का महीना भगवान शिव का सबसे अतिप्रिय महीना है। यदि कोई व्यक्ति इस महीने में सच्चे मन से भोलेनाथ की पूजा करता है, तो उसकी सभी इच्छाएं जल्द ही पूरी होती हैं। एक बात ये है कि इस महीने में खाने पीने की चीजों से परहेज करना चाहिये।



शिव पूजा में काले रंग के कपड़ों को पहनना शुभ नही माना जाता है। शिवजी की पूजा में किसी भी रंग के कपड़े पहने जा सकते हैं। लेकिन इस दौरान एक रंग पहनना वर्जित माना जाता है, वह काला रंग।

सावन के महीने में महिलायें हरी चूड़ियां या साड़ियां या अन्य कपड़े इसलिए पहनती हैं, ताकि उन्हे शिव जी का आशीर्वाद प्राप्त हो। इसी महीने में हरियाली अमावस्या पड़ती है, और इस महीने में सारा वातावरण बेहद ही खूबसूरत हो जाता है और हरा भरा हो जाता है।

Shiv pujan me Bhool Kar bhi na pehne is Rang Ke kapde Shivji Ho Jayenge naraz
shiva

इसलिए इस महीने में हरे रंग का विशेष महत्व होता है, अर्थात सावन के महीने में हरे रंग की अपनी एक अलग ही शोभा होती है।

शिव जी को प्रकृति बेहद ही प्रिय है और वह हरे वातावरण में ही रहते हैं इसलिए इस महीने में हरे रंग को जरूर पहनना चाहिए।



भगवान भोलेनाथ को प्रकृति की सुंदरता के बीच में बहुत रहना प्रिय था। इसलिए महिलाएं सावन के महीने में एक नहीं बल्कि कई कारणों की वजह से हरा रंग पहनती हैं।

माना जाता है कि शिव जी को काला रंग बिल्कुल पसंद नहीं है। यदि आप इनके गुस्से से बचना चाहते हैं, उनकी कृपा पाना चाहते हैं। तो शिवजी की पूजा में काले रंग के कपड़े ना पहनें।

APJ Abdul Kalam Motivational speech

भारत के पूर्व राष्ट्रपति A.P.J. Abdul Kalam जिनको Missile Man के नाम से जाना जाता है, उन्होंने हर युवा के लिए ऐसी Motivational Speech दी है, जिससे उनके दिल में जोश भर जाएगा।



APJ Abdul Kalam Motivational speech
A.P.J. Abdul Kalam

A.P.J. Abdul Kalam ने कहा कि इससे पहले कि सपने सच हों, आपको सपने देखने होंगे।

भारत रत्न डॉक्टर ए. पी. जे. अब्दुल कलाम एक राष्ट्रपति के रूप में भी करोड़ों हिंदुस्तानियों के सपने को साकार करने के लिए हमेशा ही उन्हें प्रेरणा देते रहे हैं।

ये देश के बेहद प्रिय और लोकप्रिय राष्ट्रपति थे। जिन्हें लोग मिसाइल मैन के नाम से भी जानते थे। उनके विचार युवाओं के लिए बेहद ही प्रेरणादायक रहे हैं।

ऐसे ही जोश भर देने वाले वाक्य जो एपीजे अब्दुल कलाम ने लोगों को बताएं, जो बेहद ही प्रेरणादायी रहे हैं।



ए. पी. जे. अब्दुल कलाम ने कहा है कि आसमान की ओर देखो और यह सोचो कि हम अकेले नहीं हैं, जो लोग सपने देखते हैं और कठिन मेहनत करते हैं, उनके साथ पूरी कायनात होती है।

एक बेहद निम्न स्तर परिवार से होने के बाद भी वे अपनी मेहनत के बल पर बड़े से बड़े सपने को साकार करने का हौसला रखते थे।

ए. पी. जे. अब्दुल कलाम ने कहा है कि- सपने वह नहीं है जो आप सोते समय देखते हैं बल्कि सपने वह है जो आपको सोने नहीं देते। आपके सपने सच होने से पहले आपको सपने देखने की हिम्मत जुटानी होगी।

अब्दुल कलाम लोगों के लिए एक बहुत बड़ा उदाहरण है, जो लोगों को आगे बढ़ाने के साथ-साथ उनके हौसले को भी बढ़ाने का एक महत्वपूर्ण कार्य करते हैं।

वह हमारे बीच में नहीं है, लेकिन उनके द्वारा सिखाई गई बातें और उनके द्वारा बतायी गयी राहों पर चलकर हमें अपने आप को सफल बनाना है, और साबित करना है।



हमें उनके द्वारा सिखाई गई बातें और प्रेरणादायक स्रोतों को हमेशा अपने मन में स्थान देना है, और उनके ही बताये गये रास्तो पर चलना है। ताकि हम भी अपने जीवन में कुछ कर सकें और उनके और अपने सपनों को सच कर सकें।

उन्होंने देश की जनता के लिए, देश के युवाओं के लिए और देश के बच्चों के लिए ना जाने कितने ही सपने देखे हैं। उन सभी सपनों को हमें सच करना है और यह साबित करना है कि उन्होने जो हमारे लिए सपने देखे हैं, वह जाया नहीं जाएंगे, हम उन्हें पूरा करके रहेंगे।

Shiv Puja Hindi tips Katha Sawan Ka Mahina शिव पूजा हिंदी टिप्स कथा सावन का महीना

Shiva Puja में इन सरल और असरदार Hindi Tips से आप इस Sawan Ka Mahina में Bhagwan Shiv की असीम कृपा प्राप्त कर सकते हैं। महादेव Lord Shiva को प्रसन्न करना अत्यंत ही सरल है।

Shiv Puja Shubhkamna Sandesh
Shiv Puja Shubhkamna Sandesh
Shiva बड़ी ही दयालु है, वह अपने भक्तों पर कभी भी कष्ट नहीं आने देते। भगवान शिव की पूजा में जो भी उपाय आप श्रद्धा भाव से करते हैं, उन सभी उपायों को भगवान शिव ग्रहण करते हैं।

इस बात का आप अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं। कि भगवान शिव ने देवों और राक्षसों के बीच में कभी भी भेदभाव नहीं रखा। संसार में जिन भी वस्तुओं जीवों से घृणा की गई है, उन सभी को भगवान शिव ने आश्रय दिया है।

Bhagwan Shiv के गले में सर्प की माला होती है, शरीर पर भस्म होती है और वह देवो और राक्षसों दोनों के ही बीच में रहते हैं।

Bhagwan Shiv की जो भी श्रद्धा भाव से पूजा करता है, उन सभी को विशेष फल की प्राप्ति होती है, उनके सभी बिगड़े काम बन जाते हैं, बस भगवान शिव पर अटूट विश्वास होना चाहिए।

जब तक भक्तों का भगवान पर संदेह बना हो तो वह भगवान को कैसे प्रसन्न करेगा। इसलिए मन में किसी भी प्रकार का संदेह नहीं होना चाहिए, भगवान पर अटूट विश्वास होना चाहिए।


आइए एक कथा संक्षिप्त में आपको बताते हैं

Bhagwan Shiv और Bhasmasur की आपको Katha बताते हैं।

भस्मासुर नामक राक्षस ने भगवान शिव की कृपा और वरदान पाने के लिए घोर तप किया। भगवान शिव ने भस्मासुर से प्रसन्न होकर उसको मनवांछित वर मांगने को कहा। तब भस्मासुर ने भगवान शिव से वरदान मांगा कि वह जिस व्यक्ति के सिर पर हाथ रखेगा, वह तुरंत ही भस्म हो जाएगा।

Bhagwan Shiv ने भस्मासुर को यह वरदान दे दिया। तब भस्मासुर के मन में एक विचार आया कि मैं इस वरदान का उपयोग किस पर करूं। यहां तो कोई भी नहीं है, तब उसके मन में यह विचार आया कि क्यों ना मैं इस वरदान को भगवान शिव पर ही उपयोग करूं। तब वह भगवान शिवजी की ओर भागा।

Bhagwan Shiv ने उसकी यह बात समझ ली और भगवान शिव वहां से अदृश्य होकर विष्णु भगवान के पास गए और उनसे कहा मेरे द्वारा Bhasmasur को वरदान दिया गया है। जिसके भी सिर पर हाथ रखेगा वह भस्म हो जाएगा, तो उस मूर्ख ने मुझे ही भस्म करने का मन बना लिया, आप कोई रास्ता सुझाएं। तब भगवान विष्णु ने मोहिनी का रूप धारण करके उस राक्षस के समक्ष प्रकट हुए और नृत्य के जरिए उस राक्षस का हाथ उसी के सिर पर रखवा दिया, जिससे वह स्वयं ही भस्म हो गया।

इस Katha को सुनाने का अर्थ केवल इतना है कि भगवान शिव इतने दयालु हैं, कि उन्होंने वरदान देते समय इस बात का विचार नहीं किया कि वह राक्षस उन्हें ही हानि पहुंचाएगा, उन्होंने उसकी भक्ति देखी। इसलिए भगवान को भोलेनाथ भी कहा जाता है।


Bhagwan Shiv अंतर्यामी है, वह सब कुछ जानते हैं। वह यह भी जानते थे कि वह राक्षस उन्हें ही हानि पहुंचाने की कोशिश करेगा। उसके पश्चात भी भगवान शिव ने उस को वरदान दिया और उस मूर्ख राक्षस ने भगवान शिव पर ही उस वरदान को आजमाने की कोशिश की। पर वह मूर्ख राक्षस यह नहीं जानता था कि जो खुद महाकाल है, उसका वह मूर्ख राक्षस क्या बिगाड़ सकता है।

Shiv Puja Hindi tips मे Bhagwan Shiv को प्रसन्न करने का सबसे सरल साधन है कि आप बड़ी श्रद्धा भाव से भगवान शिव पर एक लोटा जल चढ़ा कर सभी मनोकामना को पूर्ण करने का निवेदन करें। बस आपका शिवजी पर अटूट विश्वास होना चाहिए।

Easy Hindi Tips Shiv Puja भगवान शिव को प्रसन्न करने का सरल साधन -

1. शिव चालीसा का पाठ करके।

2. ॐ नमः शिवाय मंत्र का जप करके।

3. फल और फूल को चढ़ा कर।

4. शिवजी की आरती करके।

5. धूप दीप और हवन करके।


क्योंकि शिव ही सत्य है, शिव ही सुंदर है, शिव ही जन्म है, शिव ही अंत है, शिव ही अनंत है।

Shiva is the truth, Shiva is beautiful, Shiva is the birth itself, Shiva is the end, Shiva is infinite.

Sawan Mahina Me Bhagwan Shiv ko Prasan karne ke Adbhut aur Saral upay भगवान शिव को प्रसन्न करने के अद्भुत सरल उपाय

Devon Ke Dev Mahadev Bhagwan Shiv बहुत ही दयालु है, भक्तों की छोटी सी परेशानी भी उनसे देखी नहीं जाती। आइए जानते हैं Bhagwan Shiv ko Prasan karne ke Adbhut aur Saral upay.



जो भी जातक (भक्त) भगवान शिव की सच्चे मन से, श्रद्धा भाव से प्रार्थना करता है, भगवान शिव उनकी सभी मनोकामनाओं को पूर्ण करते हैं। जो भक्त अहंकार, क्रोध, काम, मोह की भावनाओं से दूर होकर भगवान शिव की पूजा करते हैं, स्तुति करते हैं। उन पर देवों के देव महादेव जल्दी प्रसन्न होते हैं। भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए इन सरल उपायों को आप कर सकते हैं।

Bhagwan Shiv Ki Puja Mein in Saral upay ko Karke manvanchit fal pa sakte hain


भोलेनाथ, महादेव को प्रसन्न करना बेहद ही सरल है, वह तो एक लोटे जल से प्रसन्न हो जाते हैं। भगवान शिव को इन वस्तुओं और खाद्य पदार्थों को चढ़ाने से विशेष फल प्राप्त होते हैं और मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। यह इतना सरल है कि कोई भी व्यक्ति इसे आसानी से कर सकता है।

यह भी पढ़ें.............
1. Sawan Ka Mahina Bhagwan Shiv ko Kyun Hai ati Priya सावन का महीना भगवान शिव को क्यों है अति प्रिय।

2. Shiv Ji Ki Maha Aarti Evam Kyon Karte Hai Aarti शिव जी की महाआरती एवं आरती क्यों की जाती है

3. Bhagwan Shiv Ki Puja Mein Rakhe in Baaton Ka Dhyan Kya Kare Kya Na Kare Jane भगवान शिव की पूजा मैं इन बातों का रखें ध्यान। क्या करें क्या ना करें।

  • शिवपुराण के अनुसार इन उपायों को भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए करना चाहिए।
1. भगवान शिव पर गेहूं चढ़ाने से वंश की वृद्धि होती है।
2. भोलेनाथ पर तिल चढ़ाने से पाप नष्ट होता है।
3. महादेव पर चावल चढ़ाने से धन प्राप्त होता है।
4. शिव जी पर जौ अर्पित करने से सुख-सुविधा प्राप्त होती है।
5. जल अर्पित करने से सुख समृद्धि की प्राप्ति होती है, शिवजी पर जलाभिषेक करने से शिवजी अति प्रसन्न होते हैं।
  • भगवान शिव की पूजा में इन पदार्थों का उपयोग करें भगवान शिव आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण करेंगे शिवपुराण में इन सामग्रियों का वर्णन है।
1. सफेद और लाल आंकड़े के फूल, चमेली, अलसी के फूल, शमी वृक्ष की पत्ती, बेला, जूही, कनेर, हरसिंगार, धतूरे के फूल दूर्वा, बिल्वपत्र, दूध, केसर, शहद इन सब पदार्थ सामग्री को भगवान शिव पर चढ़ाने पर विशेष फल प्राप्त होता है।

2. भगवान शिव का सबसे सरल मंत्र है "ॐ नमः शिवाय" इस मंत्र का आप जब कर सकते हैं। जिससे आपकी मनोकामनाएं पूर्ण होंगी, कम से कम एक माला का जप करें।

3. बिल्वपत्र भगवान शिव को चढ़ाने से अति प्रसन्न होते हैं। बिल्वपत्र में ब्रह्मा, विष्णु, महेश तीनों एक साथ विराजमान होते हैं।

कहते हैं जब माता पार्वती जी ने भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए तप किया था। तब उन्होंने इन्हीं बिल्वपत्रों को भगवान शिव को अर्पित किया था, उसी के साथ इन्हीं बिल्वपत्रों का सेवन किया था। इसलिए भगवान शिव को यह बिल्वपत्र अति प्रिय है। भगवान शिव स्वयं इस पेड़ में विराजमान होते हैं।

4. श्रवण मास में सावन सोमवार उपवास रखें, जिससे सफलता, सौभाग्य, वैवाहिक जीवन और समृद्धि प्राप्त होती है।


  •  भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए यह उपाय भी आप कर सकते हैं।

1. सावन में हर रोज 21 बिल्वपत्रों पर चंदन से 'ॐ नमः शिवाय' लिखकर भगवान शिव पर चढ़ा सकते हैं। जिससे मनवांछित फल मिलता है।

2. घर में गोमूत्र का छिड़कने से घर की Negative energy नष्ट होती है।

3. विवाह में आने वाली अड़चनों को को दूर करने के लिए भगवान शिव पर केसर और दूध चढ़ाएं। यह करने से विवाह के योग जल्द बनता है।

4. प्रातः काल स्नान करने के पश्चात शिव मंदिर या घर में विराजित शिवलिंग पर जल अभिषेक करें। और 'ॐ नमः शिवाय' मंत्र का जप करें।

5. तलाब और नदियों मैं मछलियों को आटे की बनी गोलियां खिलाएं। आटे की गोलियां खिलाते समय 'ओम नमः शिवाय' मंत्र या शिव जी का ध्यान करें।

6. श्रावण मास में भगवान शिव की सवारी नंदी महाराज को हरा चारा खिलाएं। इससे शिवजी बेहद प्रसन्न होते हैं।

7. सावन माह में शिव पुराण का पाठ करें।

8. सावन माह में भगवान शिव की असीम कृपा प्राप्त करने के लिए गरीबों को भोजन कराएं, और जरूरतमंदों को दान करें।

9. शिवलिंग पर गंगाजल अर्पित करें, इससे शिवजी बेहद प्रसन्न होते हैं।

10. भगवान शिव पर भांग और धतूरा चढ़ाना अति शुभ होता है, इससे महादेव प्रसन्न होते हैं।

"Wonderful ways to please Lord Shiva in Sawan mahina" सावन महिना में भगवान शिव को खुश करने के अद्भुत तरीके और सरल उपाय का अगर आप उपयोग करते हैं। तो भगवान शिव की कृपा दृष्टि सदैव आप पर बनी रहेगी। यह पूरी जानकारी शिव पुराण एवं ग्रंथों में लिखित है।



यह भी पढ़ें.............

4. Mantra our Stuti  Mahamrityunjay Mantra, Bhajan, Rudrashtakam, Lingashtakam, Shiv Tandava Stotram (मंत्र और स्तुति महामृत्युंजय मंत्र, प्रसिद्ध भजन, रुद्राष्टकम, लिंगष्टकम्, शिव ताण्डवस्तोत्रं)

5. Bhagwan Shiv Par In Samagri Ko Chadane Se Milte Hain Yeh Adbhut Labh 

6. Devon Ke Dev Mahadev, Lord Shiva Ek Mantra देवों के देव महादेव, भगवान शिव एक मंत्र

Lunar eclipse 2018 The longest lunar eclipse of 21st century चंद्र ग्रहण 2018 शताब्दी का सबसे लंबा चंद्र ग्रहण

Lunar eclipse 2018 21st century चंद्र ग्रहण को देखने का एक अलग ही अनुभव होगा जो Longest lunar eclipse of century होगा जिसका Experience  बेहद ही अलग होगा हम सबको खुश किस्मत हैं कि हमें यह सदी का सबसे लंबा Lunar eclipse देखने को मिल रहा है।

 Lunar eclipse 2018 21st century,
Lunar eclipse 2018 21st century

Lunar eclipse
को दुनिया के अधिकतर हिस्सों में देखा जा सकेगा। यह Chandra grahan लगभग एक घंटा 43 मिनट तक रहेगा। चंद्रमा सूर्य के द्वारा ही रोशनी प्राप्त करता है।

यह 2018 का अंतिम और दूसरा Chandra grahan होगा, 21वी शताब्दी का यह सबसे लंबा चंद्रग्रहण होगा। 27 जुलाई 2018 के दिन ही गुरु पूर्णिमा भी है। यह चंद्रग्रहण बेहद ही खास होगा।


Blood Moon चंद्रग्रहण के खास होने का एक कारण और भी है, चंद्रमा लाल रंग का दिखेगा। यह दिखने में बेहद ही आकर्षक और सुंदर दिखाई देगा।

 Blood Moon, Lunar eclipse 2018 The longest lunar eclipse of 21st century
Blood Moon

जब सूरज और चंद्रमा के बीच में पृथ्वी आ जाती है, जिसकी वजह से सूरज की रोशनी चंद्रमा तक नहीं पहुंच पाती। दरअसल पृथ्वी के माहौल की वजह से रोशनी पलटकर चांद पर ही पड़ती है। इस कारण ही चंद्रमा लाल नजर आता है। जिसको Blood Moon भी कहते हैं।

जब पृथ्वी सूर्य की परिक्रमा करती है, उस दौरान पृथ्वी, चंद्रमा और सूर्य के बीच में आ जाती है। और इस स्थिति में चंद्रमा धरती की छाया में छिप जाता है। इस स्थिति में जब हम चंद्रमा को देखते हैं तो वह हमें काले रंग का दिखाई पड़ता है। इस प्रक्रिया को ही चंद्रग्रहण कहते हैं।

Lunar eclipse होने का मुख्य कारण चंद्रमा और सूर्य के बीच में जब पृथ्वी आ जाती है, तब चंद्र ग्रहण पड़ता है। सूर्य का प्रकाश चंद्रमा तक नहीं पहुंचता, जिसके कारण चंद्र ग्रहण पड़ता है।

जो सदी का सबसे बड़ा चंद्रग्रहण है।


इस चंद्र ग्रहण को एशिया अफ्रीका दक्षिण अमेरिका यूरोप और ऑस्ट्रेलिया में दिखेगा।

india में यह चंद्रग्रहण 27 जुलाई को 11:00 बजकर 42 मिनट से शुरू होगा जो मध्य रात्रि 3:00 बजकर 39 मिनट तक रहेगा।

27 July 2018 Purnima ke din khandgras Chandra grahan Hai. Chandra grahan 27 July 2018 ki raat se shuru hoga, jo ki 28 July 2018 ko 3 Bajkar 59 minute Tak Rahega.

2018 ka sabse Lamba Chandra grahan 27 July ko padh raha hai.

Chandra grahan, Lunar eclipse 2018 The longest lunar eclipse of 21st century
Chandra grahan

Is Chandra grahan Mein Chandrama Lal Rang ka dikhega, jise Bloodmoon bhi Kaha jata hai.इस सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण इस वर्ष की गुरु पूर्णिमा यानी 27 जुलाई की रात को घटित होगा।


Lunar eclipse क्योंकि एक खगोलीय घटना है, इसके पहले 16 जुलाई 2000 में सदी का सबसे लंबा चंद्र ग्रहण पड़ा था, जो कि देशभर में लोगों के सामने बहुत ही ज्यादा प्रसिद्ध हुआ था। लाखों की तादाद में लोगों ने इसे देखा भी था।

Sawan Ka Mahina Bhagwan Shiv ko Kyun Hai ati Priya सावन का महीना भगवान शिव को क्यों है अति प्रिय।

Sawan Ka Mahina Bhagwan Shiv ko ati Priya है। इस माह में जो भी जातक Bhagwan Shiv Ki Puja बड़ी श्रद्धा भाव से करते हैं, उनकी सभी Manokamna पूर्ण होती हैं।

Katha anusar, Sawan Ka Mahina Bhagwan Shiv ko Kyun Hai ati Priya
Bhagwan Shiv

Bhagwan Shiv को प्रसन्न करना कठिन नहीं है, Devon Ke Dev Mahadev अति शीघ्र प्रसन्न हो जाते हैं। जो भी भक्त भगवान शिव की प्रेम भाव से और निस्वार्थ उनकी पूजा करता है, प्रार्थना करता है। उनके बिगड़े कार्य को भगवान शिव बना देते हैं।

Shiv Ji Ki Maha Aarti Evam Kyon Karte Hai Aarti शिव जी की महाआरती एवं आरती क्यों की जाती है

हर अनहोनी को टाल देते हैं, इक्षित वरदान देते हैं। भगवान शिव को प्रसन्न करने का सबसे अच्छा अवसर Sawan Ka Mahina है। सावन मास में Sawan somvar को जो भी Bhagwan Shiv का पूजन करता है, उनसे भगवान अति प्रसन्न होते हैं।



Bhagwan Shiv ko Kyun Priya hai Sawan Ka Mahina.
पौराणिक कथाओं के अनुसार (संक्षिप्त कथाएं)


  • कथा अनुसार
Bhagwan Shiv को प्रसन्न करने और उन्हें पति के रुप में प्राप्त करने के लिए माता पार्वती जी ने सावन के महीने में कठोर तप किया था। जिससे प्रसन्न होकर भगवान शिव ने उन्हें अपनी अर्धांगिनी स्वीकार किया था। इसलिए भगवान शिव को सावन माह अतिप्रिय है।

Bhagwan Shiv Par In Samagri Ko Chadane Se Milte Hain Yeh Adbhut Labh
  • कथा अनुसार
Bhagwan Shiv माता पार्वती जी के साथ सावन माह में पृथ्वी पर विचरण करते हैं। और भक्तों के सारे कष्टों को हर लेते हैं। कहते हैं भगवान शिव इस माह में माता पार्वती के साथ हिमालय राज के घर आते हैं। उनके आदर सत्कार के लिए उनका जल अभिषेक किया जाता है, उन्हें प्रसन्न करने के लिए कई तरह के उपाय किए जाते हैं।



  • कथा अनुसार
Sawan mahine में ही समुद्र मंथन हुआ था, जिससे निकलने वाले हलाहल विष को सभी देवताओं के आग्रह पर भगवान शिव ने ग्रहण किया था। इस प्रकार भगवान शिव ने सारी सृष्टि को उस हलाहल विष के प्रभाव से बचाया था कहते हैं। इसी कारण भगवान शिव पर जल अभिषेक किया जाता है।
  • कथा अनुसार
भगवान विष्णु सावन माह में योग निद्रा में चले जाते हैं और सारी सृष्टि का कार्यभार भगवान शिव के अधीन हो जाता है। भक्त, भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए कई तरह के उपाय करते हैं।

Mantra our Stuti  Mahamrityunjay Mantra, Bhajan, Rudrashtakam, Lingashtakam, Shiv Tandava Stotram (मंत्र और स्तुति महामृत्युंजय मंत्र, प्रसिद्ध भजन, रुद्राष्टकम, लिंगष्टकम्, शिव ताण्डवस्तोत्रं)

  • कथा अनुसार
इसी समय Marakandu ऋषि के पुत्र के द्वारा सावन के महीने में घोर तप किया था जिससे भगवान शिव प्रसन्न होकर उनको यम पर विजय प्राप्त करने का मंत्र दिया था। मार्कंडेय ऋषि को ऐसे अद्भुत मंत्रों की शक्ति भगवान शिव के द्वारा प्रदान की गई थी जिसके सामने स्वयं यमराज नतमस्तक हो गए थे।
  • कथा अनुसार
Sawan Ka Mahina शिवजी को अति प्रिय है, इनकी कई कथाएं हमने आपको बताई जिसमें से एक कथा यह भी है कि भगवान शिव का शरीर अत्यंत गर्म है, जिसके कारण उनको सावन का महीना अति प्रिय होता है। इस माह में अधिक वर्षा होती है साथ में प्रकृति शीतल और ठंडी हो जाती है, जिससे भगवान शिव को यह महीना बड़ा प्रिय लगता है।

Bhagwan Shiv Ki Puja Mein Rakhe in Baaton Ka Dhyan Kya Kare Kya Na Kare Jane भगवान शिव की पूजा मैं इन बातों का रखें ध्यान। क्या करें क्या ना करें।



Bhagwan Shiv के द्वारा हलाहल विष का पीना भी उनके शरीर की गर्मी को अत्यंत तीव्र करता है। जिस की शांति के लिए उन पर जलाभिषेक किया जाता है। और श्रावण मास में अधिक वर्षा होती है, जिसके कारण भगवान शिव को यह माह बड़ा प्रिय लगता है।

Sawan Ka Mahina भक्तों के द्वारा Bhagwan Shiv को प्रसन्न करने का यह अद्भुत समय होता है। जो भी भक्त भगवान शिव की बड़ी श्रद्धा भाव से उपवास करता है, उनकी पूजा करता है, उन पर भगवान शिव प्रसन्न होते हैं। और उन पर आने वाली हर समस्याओं का निदान करते हैं, उनकी मनोकामनाओं को पूर्ण करते हैं।

Best 10 Things To Be Successful In Business.

Life में कोई भी Business आप करना चाहते हैं और Successful होना चाहते हैं तो एक Good Businessman मे यह 10 Things होना Very important है।

Successful businessman, These 10 things are very important.

  1. Cleverness (चतुराई)
  2. Awareness in Business (व्यापार में जागरूकता)
  3. Behave well (व्यवहार कुशल होना)
  4. Quick Response (त्वरित प्रतिक्रिया)
  5. Good Service Customer Satisfaction (अच्छी ग्राहक सेवा, संतुष्टि)
  6. Positive Thinking  (सकारात्मक सोच)
  7. Honest ( ईमानदार)
  8. Punctuality (समय का पालन)
  9. Passion (जुनून)
  10. Hard Work (कड़ी मेहनत)
Also read...........
50 Types of Businesses

हम success के पीछे भागते हैं और बहुत सारी mistakes करते हैं गलतियां करना कोई गलत बात नहीं पर उन गलतियों से नहीं सीखना, अपने कार्य में सुधार ना लाना गलत बात है। जिन व्यक्तियों को अपने जीवन में सफलता हासिल करना है चाहे वह job हो या business these 10 things in your life that will help you get success.

Successful, Business, Best 10 Things
Best 10 Things To Be Successful In Business

1. Cleverness (चतुराई)  

एक Good businessman वह है जो अपने Product को Customer तक Easily पहुंचा सके, चतुराई से उस Material को Customers को बेच सके, समझदारी से Customer को अपने Products के बारे में बता सके, बताने का तरीका ऐसा होना चाहिए जिससे Customer उसकी बात बड़े आराम से समझ ले।
  • Convince customer (ग्राहक को मनाने के लिए)
  • Presence of Mind (बुद्धि तत्परता)
Also read...........
Business is Essential for Self Confidence  व्यापार के लिए जरूरी है आत्मविश्वास

2. Awareness in business (व्यापार में जागरूकता)

जिस भी Business को आप करते हैं या करना चाहते हैं। उस Business के बारे में आपको Full knowledge होना चाहिए। Experience और Knowledge के बिना व्यापार चलाना बहुत Difficult है। एक व्यापारी के अंदर Business करने का Experience होना चाहिए। Awareness is very important.
  • Be aware of time समय के प्रति जागरूक रहें।
  • Be aware of the need for the customer. ग्राहक की आवश्यकता के लिए जागरूक रहें.
  • Learn from small mistakes in business. व्यापार में होने वाली छोटी-छोटी गलतियों से सीखें।
  • Do not carelessly. लापरवाही ना करें।


3. Behave well (व्यवहार कुशल होना)

हमेशा Person को व्यवहार कुशल होना चाहिए, जिससे जिन व्यक्तियों से उसका मेलजोल होता है उससे उसके व्यवहार अच्छे रहे।
  • Business में एक Businessman के लिए यह बेहद ही जरूरी है कि वह अपने ग्राहकों के साथ व्यवहार कुशल रहे। यह उसके business को आगे बढ़ाने के लिए बेहद ही मददगार होता है।
  • Good relationship with the customer ग्राहक के साथ अच्छा रिश्ता
  • Customers grow ग्राहकी बढ़ती है।

4. Quick Response (त्वरित प्रतिक्रिया)

Business वही Growth करता है, जिसमें उसके Qwner द्वारा Customer को Quick Response मिलता है। अगर Customer आपकी Shop या Business Institution में आता है और उसको Answer नहीं मिलता, तो वह Customer आपके उस संस्थान में ज्यादा देर तक नहीं रुक पायेगा। इसलिए Every customer को एक समान नजरों से देखते हुए Quick response दें।
  • Quick response देने से Customer उस संस्थान में रुकता है और वही देर से प्रतिक्रिया देने पर Customer उस संस्थान पर नहीं रुकता।
  • Saving customer time. कस्टमर के समय की बचत होती है।



5. Good Service customer and satisfaction. (अच्छी ग्राहक सेवा और संतुष्टि)

अगर आप Customers को Good service प्रदान कर रहे हैं तो ग्राहक आपसे हमेशा जुड़े रहेंगे। संस्थान में बैठने की उत्तम व्यवस्था होनी चाहिए। पीने के लिए Water और Washroom होना चाहिए। Customers से Satisfying behavior होना चाहिए, इसके साथ Customer's की Needs को भी समझें।
  • आपके द्वारा प्रदान की गई Service से Customer satisfy हो।
  • बिना मतलब उनका समय खराब ना करें। इसमें उनका और आपका दोनों का समय खराब होता है।

6. Positive thinking (सकारात्मक सोच)

Business में कई तरह के उतार-चढ़ाव आते हैं, कई बार कस्टमर की संख्या भी कम होती है। कई और भी ऐसी Problem होती हैं जिनके कारण हम चिंतित हो जाते हैं। पर हमेशा Positive thinking होना चाहिए और कभी भी अपनी उन चिंताओं को बिजनेस में हावी नहीं होने देना चाहिए।
  • Negative thinking से Business and Self को हमेशा Harm पहुंचता है।

7. Honest (ईमानदार)

life में किसी भी work में Success तब मिलती है जब आप honest होते हैं क्योंकि ईमानदार व्यक्ति से सभी के व्यवहार अच्छे होते हैं।
  • ईमानदार व्यक्ति पर विश्वास जल्दी होता है अगर आप अपने व्यवसाय को higher position तक ले जाना चाहते हैं it is very important to be honest.
  • ईमानदार व्यक्ति पर Trust जल्दी होता है।
  • society में उसकी छवि अच्छी बनती है।
  • ग्राहक ऐसे ही दुकानदार से सामान लेना चाहते हैं जो ईमानदार हैं।


8. Punctuality (समय का पालन)

किसी भी प्रतिष्ठान, व्यवसाय का owner अगर अपने प्रतिष्ठान को नियमित रूप से सही समय पर नहीं खोलता तो इससे कस्टमर ऐसे establishment में जाना पसंद नहीं करते।
ऐसे व्यक्ति जीवन में progress भी नहीं कर पाते अपने business को अगर बढ़ाना है तो जीवन में कुछ rule पर अमल करना होगा समय का पालन करना होगा।
  • बीता हुआ समय वापस नहीं आता इसलिए जरूरी है कि जो काम अभी करना है उनको कल पर ना छोड़ें यह आपके बिजनेस और जीवन के लिए बेहद ही जरूरी है।
Also read...........
How you can earn a lot of money from business(आप बहुत सारा पैसा कैसे कमा सकते हैं व्यापार से)

What is the secret of business success in Hindi.  व्यापार की सफलता के क्या राज है हिंदी में !

How We Make Success Fill Self Confidence In Your Life And Achieve Success In Hindi (हम पैसे कैसे कमाए बुनियादी जानकारी भाग 3 )

Presence of Mind Easy Work And Get Success. In Hindi

9. Passion (जुनून)

हर कार्य को करने के लिए जुनून होना जरूरी है जब आप पूरे Passion के साथ किसी भी कार्य को करते हैं तो आप उसमें असफल कभी हो ही नहीं सकती।
  • आपका Passion आपको success की ओर ले जाता है।

10. Hard work (कड़ी मेहनत)

कड़ी मेहनत आपके व्यवसाय को सफल बना सकती है समझदारी से आप किसी भी व्यवसाय को आगे बढ़ाते हैं और पूरा सौ परसेंट अपने व्यवसाय को देने की कोशिश करते हैं तो उसको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता।
  • Hard Work + Smart Work = Success
  • अपने व्यवसाय को ऊंची बुलंदियों तक ले जाने के लिए कड़ा परिश्रम करना पड़ता है।
  • परिश्रम से डरने वाले व्यक्ति कभी सफल नहीं होते क्योंकि सफलता का दूसरा रूप परिश्रम है।
  • परिश्रम का अर्थ गड्ढा खोदना और रिक्शा चलाना नहीं परिश्रम का अर्थ वह है जिसमें आप अपने व्यवसाय या किसी भी कार्य को सफलता दिलाने के लिए किसी दूसरे पर dependent ना होकर खुद मेहनत करें और उसे सफलता के शिखर तक ले कर जाएं।
इन 10 things को अगर आप अपनाते हैं तो आप business को Successful बना सकते हैं। व्यापार की शुरुआत छोटे से होती है और उसको बड़ा बनाना उसके owner के हाथ में होता है उसकी cleverness उसकी Awareness उसका Behavior, Customer Service, Positive Thinking, Honest, Punctuality, Passion, Hard work ये सब उसके business को successful बनाते हैं।

Health Effects of Air Pollution in Hindi (वायु प्रदूषण)

Air Pollution जिससे Health पर Bad effect हो रहा है इससे कई तरह की Diseases का सामना करना पड़ रहा है यह सब Poor air quality के कारण हो रहा हे।

पूरी दुनिया में आज air pollution की समस्या तीव्रता से बढ़ती जा रही है जिसके कारण कई गंभीर बीमारियों का सामना करना पड़ रहा है यह सब problems का मुख्य कारण है मनुष्य का Natural resources का निर्माता से उपयोग करना जिसके कारण air pollution जैसी गंभीर समस्या का आज उसको सामना करना पड़ रहा है।

Health Effects of Air Pollution in Hindi
Air Pollution

Air pollutants list and Environmental air quality (Health Effects) वायु प्रदूषक सूची और पर्यावरण वायु गुणवत्ता

1. Chlorofluorocarbon
2. Nitrogen Oxide
3. Sulfur dioxide
4. Carbon monoxide
5. Carbon particle

Also read......
10 effects of air pollution & Environmental in Points (health effects) वायु प्रदूषण के 10 प्रभाव

वायु की गुणवत्ता को दूषित करने के कारण मनुष्य एवं अन्य जीवो को घातक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है वायु की गुणवत्ता को खराब करने का मुख्य कारण अन्य गैसों का तीव्रता से बढ़ना है जिसमें -

Nitrogen Oxide - Gas से सांस की बीमारी को और Sensitive बनाती है यह मुख्यता Diesel, Coal को जलाने से उत्पन्न होती है।

Chlorofluorocarbon - ओजोन परत जो हमारे वायुमंडल मैं रहती है यह पृथ्वी को सूर्य से निकलने वाली हानिकारक किरणों से बचाती है यह Harmful radiation health पर बहुत खराब Effects डालती हैं।

इससे Skin Cancer जैसी जैसी घातक Diseases हो सकती हैं मुख्यता क्लोरोफ्लोरो कार्बन का उपयोग Refrigerator, Air Conditioners मैं किया जाता है यह Gas चीजों को Cool करने के लिए इस्तेमाल में ली जाती है।

Sulfur Dioxide - यह gas मुख्यता सांस की बीमारी क जन्म देती है और Asthma से ग्रस्त Person को अधिक नुकसान पहुंचाती है।

यह गैस colorless होती है sulfur युक्त गैस का मुख्य स्त्रोत्र Fuel, Coal and Industrial Machinery के उपयोग से होता है।

Carbon Particle - कार्बन कण का Environment में अधिक मात्रा में बढ़ने से Human Health के लिए बेहद ही Dangerous होता है।

यह Carbon particle Diameter 2.5 Micrometre से 10 Micrometre हो सकते हैं।

यह समानता Eyes से नहीं दिखाई देते इनको देखने के लिए Microscopes का उपयोग किया जाता है।

इन Particles के उत्पन्न होने का मुख्य कारण है Vehicles का अधिक उपयोग इसके साथ जंगल में आग लगने से और Power Plants and etc कारणो से कार्बन कण उत्पन्न होते हैं जो Health के लिए बेहद ही Harmful होते हैं।

Also read......
Do you know, about the brain ? क्या आप जानते हैं, दिमाग के बारे में ?



इन Particles के कारण फेफड़ों मैं कई गंभीर बीमारियां हो सकती हैं यह कार्बन कण बीमार और स्वास्थ्य दोनों व्यक्ति को नुकसान पहुंचाते हैं हृदय संबंधी रोग से ग्रसित व्यक्ति के लिए यह बेहद ही जानलेवा होते हैं।

Carbon monoxide - wet-dry waste और अधजले fuel से यह गैस उत्पन्न होती है यह गैस तब उत्पन्न होती है जब waste पूर्ण रुप से नहीं जल पाता।

कार्बन के नहीं जल पाने के कारण कार्बन मोनोऑक्साइड गैस उत्पन्न होती है इसका सबसे ज्यादा स्त्रोत वाहनों से निकलने वाले smoke से होता है यह smoke भूरे और गहरे काले रंग का होता है।

यह गैस शरीर मैं मौजूद ऑक्सीजन को कम करती है जिसके कारण कई गंभीर बीमारियों का सामना करना पढ़ सकता है सीने में जलन और दर्द भी हो सकता है.

10 Reasons why air Pollution is Increasing. 10 कारण जिनसे वायु प्रदूषण बढ़ रहा है।

Health Effects of Air Pollution in Hindi

Effects


1. बढ़ती Industries उस से निकलने वाली गैसे.
2. Vehicles का अधिक मात्रा में उपयोग।
3. Farming से निकलने वाले Waste को जलाना।
4. सड़कों पर फैला हुआ Trash जिसको Recycle ना करके जला दिया जाता है।
5. Coal का अधिक मात्रा में उपयोग।
6. Furniture और Fire Wood के लिए जंगलों की अधिक मात्रा में कटाई।
7. जंगलों के लिए निरंतर घटती जमीन कंक्रीट के घरों का निरंतर बढ़ना।
8. मनुष्य का साफ सफाई के प्रति जागरूक ना होना।
9. प्राकृतिक संपदाओं के संरक्षण के लिए कठोर कदम ना उठाना।
10. इंसानों का प्रकृति के प्रति घटता प्रेम।

Also read......
World Water Day Pledge Save Water Save Life 


What Effects does air Pollution have (health effects) वायु प्रदूषण के क्या प्रभाव हैं

Air pollution के कारण निम्न तरह के health effects हो सकते हैं।
जैसे -
1. सांस लेने में problem होना।

2. Asthma और cough होना।

3. digestive system का खराब होना।

4. Lung की बीमारियां।

5. Liver का कमजोर होना।

6. Lung कैंसर।

7. मनुष्य की आयु average age से कम हो जाती है।

8. Stomach में Swelling, Eye में जलन और Eye की अन्य Diseases हो सकती हैं।

Air Pollution Acid Rain (Health Effects) वायु प्रदूषण अम्लीय वर्षा

Acid Rain

Acid Rain


वाहनों और कारखानों से निकलने वाली गैस वायुमंडल में मिल जाती है और वायुमंडल में मौजूद सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन ऑक्साइड जल के साथ क्रिया करके एक अम्ल बनाते हैं जो तेजाब की तरह होता है।
जिसके Effect से जलीय जंतु मछलियां और मनुष्य एवं अन्य जीव के लिए बेहद ही हानिकारक होता है यह अम्लीय वर्षा जब होती है उसके साथ पानी में घुलकर बारिश के साथ जमीन और नदियों तक पहुंच जाता है जिससे प्रकृति को बेहद ही नुकसान होता है।

Also read......
Teach Children Eco-Friendly Habits बच्चों को जरूर सिखाएं इको-फ्रेंडली आदतें


Air Quality Index (Health Effects) वायु गुणवत्ता सूचकांक

वायु में जब प्रदूषित तत्व अधिक मात्रा में बढ़ जाते हैं जिसमें सांस लेना बेहद ही नुकसानदायक हो जाता है इसकी जांच करने के लिए वायु गुणवत्ता सूचकांक (Air quality index) बनाया गया है।
वायु गुणवत्ता सूचकांक इस प्रकार है 1 से लेकर 401 तक (The air quality index is 1 to 401)

0 TO 50 वायु की good condition को दर्शाता है।
51 TO 100 वायु की normal स्थिति को दर्शाता है।
101 TO 200 वायु की average स्थिति को दर्शाता है।
201 TO 300 वायु की weak position को दर्शाता है।
301 TO 400 वायु की poor condition को दर्शाता है।
401 से ऊपर की वायु very bad स्थिति को दर्शाता है।

धूल और धुएं के रूप में सूक्ष्म कण पीएम 10, पीएम 2.5, कार्बन डाइआक्साइड, नाइट्रोजन डाइऑक्साइड, क्लोरोफ्लोरोकार्बन, सल्फर डाई ऑक्साइड, अमोनिया, कार्बन मोनो ऑक्साइड, रेडियोधर्मी प्रदूषण तत्व, ओजोन और लेड  वायु की स्थिति को खराब करने के लिए इन गैसों का बेहद अधिक मात्रा में बढ़ना है।



1. Air pollution से पृथ्वी का Temperature बढ़ेगा जिससे समुद्री बर्फ पिघलेगी जिसमे कई Countries जलमग्न हो जाएंगे।
2. बीमारियां बढ़ेंगी जिससे मृत्यु दर बढ़ेगी आदमी की औसत आयु कम हो जाएगी।
3. Ozone layer में बड़े-बड़े छेद हो रहे हैं जिसके कारण Sun से निकलने वाली Ultraviolet ray direct धरती पर पड़ेगी इसके बड़े घातक परिणाम होंगे।
4. अन्य जीव जंतुओं का जीवन संकटों से घिरता जा रहा है।

Air pollution की समस्या बढ़ती जा रही है Governments अपनी तरफ से कोशिश कर रही हैं पर हर व्यक्ति का यह कर्तव्य बनता है कि वह Air pollution रोकने के लिए प्रयास करें यह प्रयास उसकी आने वाली पीढ़ी के लिए एक वरदान होगा और इस समस्या से बचा जा सके इससे होने वाले Health Effects से बचा जा सके।

Use Social Media Platform And Get More Traffic Your Website in Hindi

Social media platforms के उपयोग से आप अपनी Website पर More traffic ला सकते हैं. इसलिए Create a Social Network जिस पर आप Successful social media campaigns करके more traffic ला सकते हैं.

Social site पर अगर आप Continuously active रहते हैं, तो आपके Visitors की संख्या बढ़ती जाएगी और यह Viewer आसानी से अपनी Website, blog, youtube पर ला सकते हैं. ऐसे बहुत सारे Social websites, app आपको मिल जाएंगे, जिन पर आप Free and paid दोनों तरह से Campaigns कर सकते हैं. जो आपकी Website को ज्यादा से ज्यादा Visitor तक पहुंचाएगी.



Aap in Popular social site ka upyog kar sakte hain. Social networking site se apne business main growth La sakte hain.

Also read.......
How To Create a Blog For Free Best SEO Tips And Make Money In Hindi

  • Top 12 list of Best Social Networking Sites


1.Facebook
2.Google Plus
3.Twitter
4.Tumblr
5.StumbleUpon
6.Reddit
7.Scoop it
8.List.ly
9.Paper Li
10.Quora
11.WhatsApp
12.Pinterest

How to Create SEO and USER Friendly Article in Hindi

SEO friendly article ke sath User-friendly article bhi hona chahiye. Jisse viewer ko article Padhne Mein Asani Rahe.

Article likhte Samay Hamesha is Baat Ka Dhyan Rakhna Hai SEO friendly or user friendly content hona chahiye jisse Search Engine Optimisation Main Pareshani Na Ho. short tail or long tail keyword ka use kare article mein image, voice, video ka bhi use user friendly Hota Hai. Is Tarah Ki seo writing tips Jarur ajmaye.


SEO friendly article ke liye kya kya zaroori hai

Also read...

1. Keywords Research

जिस भी Topic पर आप Article लिख रहे हैं उस से

 Related Best keyword research करें. और उन Keywords को अपने Article में Add करें. कोशिश करें कि उस Keyword से Related कीवर्ड आपके articles में हो.

ध्यान रखें -
आपको अपने Article में 2 से 3% ही Keywords का यूज़ करना है. इस बात से बचना है कि कहीं आप Keyword stuffing तो नहीं कर रहे. इससे आपका Article खराब हो सकता है और उस Post को Ranking भी नहीं मिलेगी.

2. Post title and search Description.

जो भी आप Post लिख रहे हैं उसमें Title और Descriptiveness बेहद ही Important होता है. इन दोनों को बेहद ही Attractive लिखना होता है. जिससे Viewer पढ़ते साथ ही आपके Article को पढ़ने के लिए आपकी Website blog पर आ जाएं। User और SEO में इनका बेहद ही महत्व है.


(a) Post Title.

Post title को ऐसे लिखें, जिससे User और SEO दोनों के लिए ही अच्छा हो. उस Title में Keyword का इस्तेमाल करें. वह Keyword जिस पर आपने Article लिखा है. इसमें आप Short tail और long tail दोनों तरह के Keywords use कर सकते हैं।


(b) Search Description

Post लिखते समय Search Description जरूर लिखें. और इसमें कम से कम Main keywords से Related 4 या 5 Keywords का उपयोग जरूर करें. Search Description ऐसा होना चाहिए. जो User और SEO friendly हो. आपको इस बात का ख्याल रखना है कि Description को इस तरह से लिखें. कि कोई भी User उसको पढ़े तो वह Post तक खींचा चला आएं. यह सर्च Description सर्च इंजन के Result में शो होता है. इसलिए सर्च Description को Simple language और West keyword का उपयोग करना चाहिए.

3. Permalink

Permalink को हमेशा Manually चेक करना चाहिए. उसमें देखना चाहिए कि आप का Main keywords आ रहा है कि नहीं. अगर नहीं आ रहा है तो उस पर Permalink को SEO Friendly बनाएं. यह बेहद ही जरूरी है।.

Also read...

Permalink Kya Hai? Custom Permalink Ka Upyog Kyu Kare, Blogging/Seo Tips

4. Google, Yahoo, Bing Search Engine Optimisation

आप अपनी Post ko URL Search engine में Submit करें. वैसे अगर आपने अपनी Website blog का URL Search engine में Submit कर रखा है. तो यह जरूरी नहीं कि आप अपनी हर Post का URL Web master tools में Submit करें. यह Automatic ही सबमिट हो जाते हैं. पर इसमें समय लग सकता है अगर आप तुरंत अपनी Post का URL Submit कराना चाहते हैं, तो Webmaster tools का Use कर सकते हैं.


Also read...
Best 3 Things Important if You Are Starting Blogging In Hindi

5. Backlinks Banaye

जिस Post को आप Rank कराना चाहते हैं तो उसके लिए Backlinks बहुत Important रोल अदा कर सकती है. इसके बहुत सारे तरीके है. जिनसे आप Backlinks बना सकते हैं. SEO friendly article जिसमें Backlinks Domain से आपको Backlinks मिले.
इन तरीकों से आप High Quality Backlinks बना सकते हैं.

(a) Questions Answer Websites
(b) Guest Post
(c) Web Directory
(d) Social Bookmarking
(e) Other website par comment kar ke


अगर आप Long time के लिए Blogging कर रहे हैं. तो आपको Backlinks बनाने की आवश्यकता नहीं हैं. लेकिन अगर आप Short time के लिए या Viral topic के लिए आप Blogging कर रहे हैं. तो उसमें Backlinks का बहुत Important स्थान होता है.

जैसे इस तरह के Topic के लिए Backlinks का बहुत ही Important स्थान होता है. Festival, Seasonal, Trending topic या Viral topic क्योंकि इस तरह के Topic कुछ दिनों के लिए ही सर्च में आते हैं. और उनको ranking दिलाने के लिए Backlink की आवश्यकता होती है. इस तरह के topic में Comptition ज्यादा होता है.

6. H2 H3 Heading ka Use Kare

H1(Main heading) - Post की Main heading को Heading1 कहते हैं.
H2 (Heading) -  Main Heading के बाद अन्य जो Heading  होती हैं. उन्हें Heading 2 कहते हैं.
H3 (Subheading) - Heading 2 के अंदर जो Heading होती हैं. उनको Subheading कहते हैं.
H4 (Minor heading) - Subheading के अंदर जो Heading हम लिखते हैं. उन्हें Minor heading कहते हैं.



अगर आप कोई भी Article लिख रहे हैं और उस Article में और भी Heading का यूज कर रहे हैं. तो उस Heading को H2 heading का tag दें. अगर उस Heading के साथ Sub Heading है. तो उस Heading को H3 tag दें. Sub Heading के अंदर भी अगर कोई Heading यूज कर रहे हैं. तो उस heading को H4 tag दे. Image में आप समझ सकते हैं.

इस तरह की Heading को Use करने से Article SEO friendly होता है. और Search Engine को समझने में आसानी होती है.

Also read...
How To Use Trending Topic, Blogging Tips.



7. Internal link

आप अपने Article में Internal link का उपयोग करें. Internal link वह लिंक होती है. जो आप Post में Link add करते हैं. यह Internal link आपके स्वयं के Post की भी हो सकती है. और अन्य किसी Post की भी. उस Post से Related और अधिक Information या Article तक पहुंचाने के लिए आप Internal link का उपयोग करते हैं. यह SEO and User-friendly होती है.


Internal link का उपयोग करने से युद्ध आप की Post पर ज्यादा देर तक रुकते हैं इससे Bounce rate कम होता है.
Internal link के उपयोग से आपकी अन्य पोस्टों पर Traffic increases होता जिन Post की Link आपने अपने article पर लगाया है उन का.

8. Writing High Quality Article

(a) Unique Content का Use करें. 
(b) Viral trending subject को Use करें. 
(c) किसी भी आर्टिकल का Copy paste ना करें.

(d) अधिक से अधिक Information दें. 
(e) Article को ऐसा लिखें कि User article पूरा पढ़ें. कोशिश करें छोटे छोटे Paragraphs में लिखें. यह पढ़ने में आसान होते हैं.
(f) आर्टिकल को Publish करने से पूर्व पूरा जांचें. कहीं उसमें कोई Mistakes तो नहीं रह गई. उन Mistakes को सुधारें फिर Publish करें.

User friendly article ke liye kya zaroori hai

9. Full Information and Examples 

User जिस Information के लिए आपकी Website blog पर आया है. उसको वह Information पूरी और Right होना चाहिए. जिससे User आपसे हमेशा जुड़ा रहे. Viewers को समझाने के लिए examples का उपयोग करें. जिससे Articl Easy and Understand हो. 

10. Use Image Voice and Video

Articles में हमेशा Image, voice और video का उपयोग करना चाहिए. यह User friendly होते हैं. कई बार Users को समझने में परेशानी होती है. जिसको वह Image के द्वारा आसानी से समझ लेते हैं. इसलिए Articles में Image होना जरूरी है. कुछ Visitors तो Image के कारण ही Website में आ जाते हैं.



Voice और Video का यूज़ हमें इसलिए करना चाहिए कि कई बार User Articles को नहीं पढ़ पाते. क्योंकि उनके पास time नहीं होता. पर वह Article को सुन सकते हैं. अगर आप अपनी Voice Article में add करते हैं. तो वह आसानी से उस Article को सुन सकता है.

बहुत से User को Article पढ़ना अच्छा नहीं लगता. यह boring लगता है. पर उनको Video देखना पसंद है तो इससे वह user भी आपकी Website से वापस नहीं जाएंगे.



11. Explain In Simple Word

हमेशा जब भी आप अपने Article में किसी भी Subject की Information दे रहे हैं. तो कोशिश करें Simple words में जानकारी Visitor तक पहुंचाएं. जिससे उनको समझने में आसानी हो. ज्यादा Difficult words का उपयोग ना करें. ज्यादा से ज्यादा कोशिश करें किस Easy word का उपयोग करें. क्योंकि हम Visitor के ही लिए Article लिख रहे हैं. अगर उन्हें पसंद नहीं आएगा तो हमारे Article का कोई मतलब नहीं।

Also read...

Best Keyword Research Kaise Kare Best Free Keyword Research Tool Blogging/SEO Tips

12. Small Paragraphs

हमेशा Small paragraphs का यूज़ करना चाहिए. क्योंकि User इसे Easily read कर लेते हैं. इससे कई Advantages हैं. User को यह पता ही नहीं चलता कि कब उसने पूरा आर्टिकल पढ़ लिया. और बड़े Paragraph में Users आधा article read करने बाद articles को छोड़कर किसी अन्य आर्टिकल पर चले जाते है. इसलिए जरूरी है कि आप छोटे Short paragraphs का उपयोग करें.

13. Understand User's Needs

वैसे एक ही Article में आप Visitors को सभी Information तो नहीं दे सकते. पर कोशिश करें कि जो भी Information आप दे रहे हैं. वह ज्यादा से ज्यादा उन तक पहुंचा सके. और उन Articles तक पहुंचाने के लिए अन्य Websites के links भी उनको Provide कराएं. जिससे वह अधिक जानकारी प्राप्त कर सकें. इससे Visitors और Blogger के बीच में एक अच्छा रिश्ता कायम होता है. Visitors विश्वास करता है यह बेहद ही जरूरी है.


Post तभी ranks करती है जब articles का Good SEO हो और Article is user friendly हो आर्टिकल में हमेशा ऊपर दी हुई बातों का ध्यान रखें.