Copyright 2018 www.indiaskk.com. Powered by Blogger.

Blogging

Love Awareness

Business Information

Motivation

Essential News

Health Awareness

Blogging

Festivals

» » Smartphone is becoming fatal for children स्मार्टफोन बच्चों के लिए घातक होते जा रहा है

क्या आप जानते हैं? कि स्मार्टफोन बच्चों के लिए कितना घातक होता जा रहा है। अगर आप नहीं जानते हैं तो इस को जानना बहुत ही जरूरी है। क्योंकि स्मार्टफोन से बच्चे बीमार हो रहे हैं, कहीं ऐसा ना हो कि बात आपके हाथ से निकल जाए इसलिए आज ही जाग जाएं और अपने बच्चों पर नजर रखें कि कहीं वह भी स्मार्टफोन का उपयोग जरूरत से ज्यादा तो नहीं कर रहे हैं। जिससे आने वाली परेशानियों को आप रोक सकें क्योंकि इससे विभिन्न प्रकार की बीमारियां आपके बच्चे को हो सकती है। जिन को सही करना काफी मुश्किल कार्य हो जाएगा इसलिए पहले ही सतर्क होना जरूरी है।


आइए जानते हैं कि कौन सी परेशानियां है, जो स्मार्टफोन से आपके बच्चे को हो सकती है।


Smartphone is becoming fatal for children
child awareness


1 - आपको अपने बच्चों को स्मार्टफोन बिल्कुल भी नहीं देना है। क्योंकि स्मार्टफोन का आपके बच्चों पर कही ना कही बुरा असर डाल रहा है और उनकी याददाश्त को कमजोर कर रहा है। स्मार्टफोन बच्चों की स्मार्टनेस को खत्म कर रहा है।


2 - आपको बताते हैं कि किस तरह से स्मार्टफोन आपके बच्चों के दिमाग पर हावी हो रहा है। और उन्हें नुकसान पहुंचा रहा है। स्मार्टफोन से बच्चे कई तरह की मानसिक बीमारियों के शिकार हो रहे हैं। स्मार्टफोन एक ऐसी लत है जिसमे बच्चा अगर एक बार पड़ जाए तो उसका उससे बाहर निकलना मुश्किल हो जाता है। AD


3 - दुनिया के कई ऐसे वैज्ञानिकों है जिन्होंने चेतावनी दी है कि स्मार्टफोन से बच्चों को खतरा है इसलिए बच्चों को स्मार्टफोन से दूर रखे। स्मार्टफोन एक ऐसा डेंजरस खिलौना बन गया है।
क्या आप जानते हैं हमारी आंखें 1 मिनट में 14 से 18 बार झपकती हैं लेकिन जब हम मोबाइल में देखते हैं उस समय यह घटकर 1 मिनट में 7 से 8 बार हो जाती हैं इसकी वजह से टियर ग्लैंड से निकलने वाला लुब्रिकेशन कम हो जाता है।


4 - स्मार्टफोन बच्चों की आंखों को नुकसान पहुंचा रहा है जिससे कम उम्र में ही बच्चों की आंखों में चश्मा लगाने जैसे समस्या उत्पन्न हो रही है। वैज्ञानिकों ने कई रिसर्च किया है और यह पता लगाया है कि सबसे ज्यादा नुकसान बच्चों की आंखों को होता है। बच्चों की मोबाइल की स्क्रीन की चमक होती है वह आपकी आंखों के लुब्रिकेंट को खत्म कर देती है जिसकी वजह से यह परेशानी उत्पन्न होती है। यह आंखों की रोशनी कम करता है।


Smartphone is becoming fatal for children
child awreness


5 - क्या आप जानते हैं स्मार्टफोन से हमारे ब्रेन का विकास सही तरीके से नहीं हो पाता है। खासतौर से आपने देखा होगा और सुना भी होगा कि ज्यादातर बच्चों का विकास 1 से 5 साल की उम्र में बेहद ज्यादा होता है और उम्र बढ़ने के साथ साथ ही वह विकसित होता जाता है लेकिन अगर हम अपने बच्चे को स्मार्टफोन देते हैं और वह इसका लगातार यूज़ करता है तो इससे उसके ब्रेन पर बहुत ही ज्यादा विपरीत प्रभाव पड़ता है और उसके सोचने समझने की क्षमता भी कमजोर होती है, उसकी याददाश्त कमजोर होती है और साथ ही साथ शारीरिक विकास भी सही तरीके से नहीं हो पाता।


6 - बच्चों का स्मार्टफोन से उनके नाजुक मन पर बहुत ही विपरीत प्रभाव पड़ता है। अक्सर बच्चे मोबाइल में गेम खेलते हैं। जब हमने इस चीज के लिए उन्हे रोकते ठोकते हैं तो उनका स्वभाव चिड़चिड़ा हो जाता है। जब बच्चे मोबाइल में गेम खेलने लगते हैं तो वह गेम खेलने के आदी हो जाते और वह अपने आप को समझा नहीं पाते हैं इसलिए हमें अपने बच्चों को गेम खेलने के लिए मोबाइल देना ही नहीं है।


7 - बच्चे के भविष्य का विकास उसके दैनिक दिनचर्या पर निर्भर करता है लेकिन यदि बच्चे ऑल टाइम स्मार्ट फोन में व्यस्त रहने लगे और खेलने-कूदने, पढ़ाई करने और बाकी चीजों के बजाए स्मार्ट फोन में अपना साथ समय व्यतीत करने लगे तो आप ही सोचिए कि इसका उस बच्चे पर क्या प्रभाव पड़ेगा।


Smartphone is becoming fatal for children
cute baby


8 - स्मार्टफोन से रेडियो तरंगे निकलती है और लगातार स्क्रीन पर देखने से इन तरंगों का दिल, दिमाग, आंखों, और सेहत पर बहुत ही ज्यादा दुष्प्रभाव पड़ता है बच्चों के लिए स्मार्ट फोन का यूज करना एक प्रकार की लत बन जाती है और देखते ही देखते वह आदत में शुमार हो जाता है। इन आदतों का बच्चाें पर शारीरिक और मानसिक रूप से बहुत ही बुरा प्रभाव पड़ता है और वह शारीरिक और मानसिक रुप से कमजोर हो जाते हैं। AD

«
Next
Newer Post
»
Previous
Older Post

No comments:

Leave a Reply