Copyright 2018 www.indiaskk.com. Powered by Blogger.

Blogging

Love Awareness

Business Information

Motivation

Essential News

Health Awareness

Blogging

Festivals

» » » Durga Maa Ke Mantra ki Shakti दुर्गा मां के मंत्रों की शक्ति

दुर्गा मां के मंत्रों की शक्ति से हम अपनी इच्छा शक्ति, शारीरिक शक्ति और मानसिक शक्ति को मजबूत कर सकते हैं। इनके नियमित अभ्यास से हमें कई तरह की सिद्धियां प्राप्त होती हैं। और बुरी विपदाएं हमारे ऊपर कभी नहीं आती और अकाल मृत्यु का भय भी कभी नहीं होता।


Durga Maa Ke Mantra
india skk



माया, बुद्धि तत्व की जननी विकार, अंधकार, अज्ञानता रुपी राक्षस से रक्षा करने वाली, राक्षसों का संहार करने वाली माँ दुर्गा जिनको कई नामों से जाना जाता हैं। जो शंकर जी की पत्नी है। 12 शंकर जी के ज्योतिर्लिंगों में देवी दुर्गा की स्थापना रहती है।

वीडियो देखें क्लिक करें-



दुर्गा माँ सभी मनोकामनाओं को पूर्ण करती है। हिंदू धर्म में भगवती दुर्गा मां के मंत्रों की शक्ति को सर्वोच्च माना जाता है। दुर्गा सप्तशती का पाठ प्रतिदिन करने हमें कई तरह की सिद्धियां प्राप्त होती है। यह हमारी सभी मनोकामनाओं को पूर्ण करता है।  9 दिन तक दुर्गा सप्तशती का पाठ करने से सभी मनोकामनाओं की पूर्ति होती है।



सप्तशती के सिद्ध मंत्र में कुछ इस प्रकार हैं। जो की विभिन्न विपत्तियों से हमारी रक्षा करते हैं ! सप्तशती में दुर्गा मां के मंत्रों की शक्ति इस प्रकार है-




सर्व कल्याण के लिए मंत्र
सर्व मंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके।
शरण्येत्र्यंबके गौरी नारायणी नमो स्तुते ॥

आपत्ति उद्धारक मंत्र
शरणागतदीनार्त परित्राण पारायणे।
सर्व स्यार्ति हरे देवी नारायणी नमो स्तुते ॥

भय निवारक मंत्र
सर्वस्वरूपे सर्वेशे सर्वशक्तिमन्विते।
भय भ्यस्त्राहि नौ देवी दुर्गे देवी नमो स्तुते॥

रोग नाशक मंत्र
रोगानशेषानपहंसि तुष्टा रुष्टा तु कामान् सकलानभिष्टान्।
त्वामाश्रितानां न विपन्नराणां त्वामाश्रितानां हृााश्रयतां प्रयांति ॥
महामारी नाशक मंत्र
जयंती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी।
दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमो स्तुते ॥

इच्छित पति प्राप्ति के लिए मंत्र
ॐ कात्यायनि महामाये महायोगिन्यधीश्वरि।
नंदगोप सुते देवी पतिं मे कुरु ते नमः॥

पुत्र प्राप्ति के लिए मंत्र
देवकीसुत गोविंद वासुदेव जगत्पते ।
देहि मे तनयं कृष्ण त्वामहं शरणं गतः॥

विघ्न नाशक मंत्र
सर्वबाधा प्रशमनं त्रैलोक्यस्याखिलेश्वरि।
एवमेय त्याया कार्य मस्मादृैरि विनाशनम्॥

शक्ति प्राप्ति के लिए मंत्र
सृष्टिस्थिति विनाशानां शक्तिभूते सनातनि।

«
Next
Newer Post
»
Previous
Older Post

No comments:

Leave a Reply