Copyright 2018 www.indiaskk.com. Powered by Blogger.

Blogging

Love Awareness

Business Information

Motivation

Essential News

Health Awareness

Blogging

Festivals

» » » Nauratri Vrat ke Niyam.(नवरात्रि व्रत के नियम)

नवरात्रि में माता रानी के व्रत रखते समय हमें कुछ नियमों का पालन करना बेहद जरुरी है। अगर हम नियमों का पालन करते हैं तो मातारानी जल्दी हमारी मनोकामनाओं की पूर्ति करती है। हमें किसी भी कार्य को नियमपूर्वक करना चाहिए।

 INDIA SKK TOP NEWS
nauratri


व्रत में नियमों का पालन करना आवश्यक होता है अगर इनका पालन को नही हम करते हैं तो हमारा व्रत अधूरा रह जाता है इसलिए नवरात्रि में या फिर किसी भी व्रत में कुछ नियमों का पालन अवश्य करें।

वीडियो देखें क्लिक करें- नवरात्र व्रत नियम व पूजा विधि 2017

नवरात्रि व्रत के नियमों का पालन करना बेहद जरूरी है-
1. दिन के हिसाब से मां के सिंगार में रंग का उपयोग करें।
2. लाल रंग का उपयोग जरुर करें।
3. फूल-फल, वस्त्र आदि का प्रयोग करें।
4. सुबह शाम धूप, दीप, मंत्र आदि का आवाहन करें।
5. मां की आरती करें, दुर्गा सप्तशती का पाठ, चालीसा, मंत्र का जप करें।

वीडियो देखें क्लिक करें-



6. नवरात्रि में ब्रम्हचर्य का पालन करें।
7. भोजन में सेंधा नमक का उपयोग करें।
8. लहसुन प्याज न खाएं।
9. जमीन पर सोये, यह शुभ फलदाई होता है
10. गरीब कन्याओं का पूजन करें, कन्या भोजन कराएं।
11. क्रोध, मोह, लोभ, लालच, बुराई, गलत कामों को त्याग दें या गलत कामों का त्याग करें।
12. व्रत के रहते हुए लोगों को मृदुभाषी होना चाहिए और क्रोध का त्याग करना चाहिए।
13. व्रत के समय सच्चे दिल से मां की पूजा आराधना करनी चाहिए।
14. अखंड ज्योति जलाने वालों को पूजा घर खाली नहीं छोड़ना चाहिए।
15. काला रंग का कपड़ा न पहने।

वीडियो देखें क्लिक करें-



नवरात्रि में हर एक स्थान पर रौनक देखने को मिलती है। जगह-जगह माता के पंडाल लगे रहते हैं। जगह जगह प्रसाद वितरण होता है। गरबा, नाच-गाना, बड़े ही मनमोहक दृश्य देखने को मिलते है।
नवरात्रि का त्योहार जीवन को आनंद से भर देता है, ढेर सारी खुशियां लाता है, सपनों को पूरा करने का और मां जगत जननी के सामने अर्जी लगाने का खास अवसर होता हैं। ऐसे में मां को खुश करने का ये अमूल्य अवसर न खोये जो दिल में है मां से मांग ले।

वीडियो देखें क्लिक करें-


«
Next
Newer Post
»
Previous
Older Post

No comments:

Leave a Reply