Copyright 2018 www.indiaskk.com. Powered by Blogger.

Blogging

Love Awareness

Business Information

Motivation

Essential News

Health Awareness

Blogging

Festivals

» » » » Maha Shivratri 2018:17 significance of Festival and Fasting महाशिवरात्रि 2018- त्यौहार और व्रत का महत्व

"Maha Shivratri 2018" Significance Of Festival And Fasting महाशिवरात्री 2018-महा शिवरात्रि के दिन शिव पूजा और व्रत का महात्व।

Maha Shivratri 2018: Maha Shivratri significance of Festival and Fasting
Maha Shivratri 2018

Bhagwan Shiv Par In Samagri Ko Chadane Se Milte Hain Yeh Adbhut Labh

आइए जानते हैं -
  1. "Mahashivaratri 2018" महाशिवरात्रि का त्योहार और महाशिवरात्रि व्रत बड़ी ही धूमधाम से भारतवर्ष में मनाया जाता है जिसमें भक्त भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए अनेक उपाय करते हैं, इस बार फरवरी माह की 13 और 14 तारीख को महाशिवरात्रि मनाई जाएगी।                                                   
  2. "Mahashivaratri" के दिन जगह जगह भंडारा और भजन का कार्यक्रम होता है शिव जी की शोभा यात्रा निकाली जाती है जिसमें लोग बड़े ही उत्साह से एकत्रित होते हैं।                                                        
  3. "Mahashivaratri" भगवान शिव और माता पार्वती के विवाह का दिन है इस दिन और मंदिरों में विशेष पूजा अर्चना होती है।                                                                                                                  
  4. "Mahashivaratri"  के दिन सुबह उठकर स्नान करने के बाद भगवान शिव के मंदिर जाकर शिवलिंग पर जल चढ़ाया जाता है और अन्य सामग्री चढ़ाई जाती है जिसका विशेष फल प्राप्त होता है।         
  5. "Mahashivaratri"  के दिन भगवान शंकर और माता पार्वती की विशेष कृपा होती है।                   
  6. "Mahashivaratri" के दिन भगवान शंकर शिव के चरणों में निम्न सामग्री चढ़ाई जाती है खजूर की पत्ती का बना हुआ मुकुट, गेहूं की बाली, बेर, आम की मोर, फल, फूल,बेलपत्र, धतूरे के पुष्प और उसका फल, भांग, दूध, दही, घी, शक्कर, शहद इत्यादि सामग्री चढ़ाई जाती है जिससे भगवान शिव अति प्रसन्न होते हैं। 
  7. "Mahashivaratri"  की रात को शिवभक्त भजन और कीर्तन करते हैं भगवान शिव की विवाह का उत्सव मनाते हैं।                                                                                                                               

    Devon Ke Dev Mahadev, Lord Shiva Ek Mantra देवों के देव महादेव, भगवान शिव एक मंत्र

                     
  8. "Mahashivaratri" के दिन भक्तगणों उपवास रहते हैं और संध्या काल को भगवान शिव का पूजन अर्चन करने के बाद फलाहार ग्रहण करते हैं।                                                                                 
  9. "Mahashivaratri"  के दिन उपवास रहना बड़ा ही शुभ कार्य माना गया है इस दिन शिवभक्त बहुत अधिक मात्रा में उपवास रहते हैं और शिव की उपासना करते हैं।                                                     
  10. "Mahashivaratri"  के दिन जो व्यक्ति उपवास रहता है और शिव की उपासना पूजा करता है उस पर शिव भगवान की विशेष कृपा होती है।                                                                                        
  11. "Mahashivaratri"  के दिन भारत के 12 ज्योतिर्लिंगों में बहुत अधिक मात्रा में श्रद्धालुगण पूजन और दर्शन करने के लिए आते हैं इस दिन इन 12 ज्योतिर्लिंगों पर बहुत अधिक श्रद्धालु होते हैं जो भगवान शिव के दर्शन करके सौभाग्य और आनंद को प्राप्त करते हैं।                                                           
  12. "Mahashivaratri"  के दिन शिव पुराण का पाठ घरों और मंदिरों में कराया जाता है।                   
  13. "Mahashivaratri''  के दिन जो कन्याएं उपवास रखती हैं उनके विवाह में आने वाली सारी अड़चनें दूर हो जाती है और उनको अच्छा वर पति मिलता है।                                                                       
  14. "Mahashivaratri"  के दिन उपवास रखने की सब के अलग-अलग नियम कुछ लोग उपवास में जल तक का सेवन नहीं करते और कुछ लोग दिन में फलाहार का सेवन कर लेते हैं और कुछ लोग पूरी पूजा विधि करने के बाद भोजन का सेवन करते हैं।                                                                             
  15. "Mahashivaratri"  पौराणिक कथा के अनुसार फाल्गुन मास कि कृष्ण पक्ष की रात को भगवान शिव ने संरक्षण और विनाश का सृजन किया था।                                                                                     
  16. "Mahashivaratri" जो व्यक्ति व्रत और पूजन करता है वह मोक्ष को प्राप्त करता है।                       
  17. "Mahashivaratri" इस बार 2 दिन पढ़ रही है 13 और 14 फरवरी।

«
Next
Newer Post
»
Previous
Older Post

No comments:

Leave a Reply